Daily Archives: March 13, 2018

बालपाठ – तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार (विप्रनारयण/भक्तांघ्रिरेणु स्वामीजी )

Published by:

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी)

periyaperumal-thondaradippodiazhwar

आण्डाल दादी, अपने घर के बाहर एक विक्रेता से फूल खरीदते है |पराशर और व्यास सुबह सुबह उठकर दादी के पास जाते है

व्यास: दादी, बस याद आया कि आपने कहा था कि दो आऴ्वार स्वामीजी थे, जिन्होंने पेरुमल को फूलों का कैंकर्य करते थे । हम जानते हैं कि उनमें से एक पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) थे । क्या आप हमें अब दूसर आऴ्वार स्वामीजी के बारे में बता सकते हैं?

आण्डाल दादी: व्यास आपके पास बहुत अच्छी याददाश्त है | जैसा कि आप इसके लिए पूछा, मैं आपको दूसरे अलवर के बारे में बताऊंगा जो फूलों का कैंकर्य पेरुमल को पेश करते थे |

पराशर और व्यास अगले आऴ्वार स्वामीजी के बारे में सुनने के लिए दादी के आसपास बैठें |

आण्डाल दादी: उनको तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार के नाम से जाना जाता है| उनके माता-पिता ने उन्हें विप्रनारायण का नाम दिया | उनका जन्म मार्गशीर्ष मास – ज्येष्ठा नक्षत्र कुम्बाकोनाम के पास तिरुमण्डंगुडि में हुआ था | श्री रंगनाथन उनको बहुत प्रिय थे| विप्रनारयण स्वामीजी नित्य भगवान श्रीरंगनाथ का कैंकर्यं करते| इतने प्रिय थे के उनहोने दो दिव्या प्रांबंधों में किसी भी अन्य पेरामल का उल्लेख नहीं किया है, एक तिरुमालई है और दूसरा एक तिरुपल्लिएऊचि है। ऐसा कहा जाता है कि जो तिरुमलाई को नहीं जानता, वह पेरूमल को समझने में सक्षम नहीं होगा।

पराशर: ओह!दादी यह क्या है? तो हम दोनों भी तिरुमलाई सीखेंगे।

आण्डाल दादी: मुझे यकीन है, आप इसे भी सीखेंगे। थिरुमलाई पूरी तरह से पेरिया पेरूमल की महिमा बताता है। क्या आप इन अज़व्वार का एक विशेष पहलू जानते हैं?

व्यास: दादी वो क्या है?

आण्डाल दादी: क्या आपने श्रीवेंकटेश्वर के सुप्रभातम का सबसे पहला श्लोक सुना है??

पराशर: हाँ दादी। (गाती है) “कौशल्या सुप्रजा राम …”

आण्डाल दादी: हाँ। क्या आप जानते हैं कि यह श्रीरामायणम से है? यह ऋषि विश्वामित्र द्वारा श्री राम को उठाने के लिए पढ़ाया जाता था | इसी तरह, पेरियाळ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी)ने भी अपने पाशरुम में कन्नन सम्राट को जगाते हैं । तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार अपने प्रबंधम में श्रीरंगनाथन के लिए सुप्रभातम गाते है |

व्यास: ओह! यही वह है जिसे हम सुनते हैं कि अररियार स्वामी सुबह-शाम पेरिया पेरूमल के सामने मार्गशीर्ष मास के दौरान तिरुप्पावै का पाठ करते हैं।

आण्डाल दादी: हाँ। आप बहुत सही हैं आइए हम इन फूलों के साथ माला तैयार करें और पेरिया पेरुमल सनीधि में जाएं ।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/12/beginners-guide-thondaradippodi-azhwar/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org