बालपाठ – श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी)

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी)

andal-birth-mirror

आण्डाल दादी सुबह दूधवाले से गाय का दूध इकट्ठा करती हैं और उसे अपने घर में लाती हैं।

दूध को गरम करने के बाद, वोह इसे पराशर और व्यास को देती हैं। पराशर और व्यास चलो  दूध पीलो|

पराशर: दादी, आपने उस दिन कहा था कि आप हमें बाद में आण्डाल के बारे में बताएंगी। क्या आप हमें अभी बता सकती हैं?

आण्डाल दादी: ओह, अरे हाँ। मुझे याद है। ज़रूर, अब समय है कि मैं आपको आण्डाल के बारे में बताती हूं |

आण्डाल दादी, व्यास और पराशर, तीनों बरामदा में बैठते हैं |

आण्डाल दादी: श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी) पेरियाअव्वार की बेटी थी, उनका जन्म श्रीविल्लिपुत्तूर में हुआ था, पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) को श्रीआण्डाल मंदिर के बगल के बगीचे में एक तुलसी के पौधे के निकट में मिली। वह आशड मास के पूर्व फाल्गुनी नक्षत्र में पैदा हुई थी। यह दिन तिरुवाडीपुरम के रूप में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। पेरियालवार  ने श्रीआण्डाल को नियमित भोजन के साथ साथ भगवान नारायण के प्रति भक्ति को भी नियमित भोजन की तरहा श्रीआण्डाल दिया।

व्यास: ओह, दादी यह तो बहुत अच्छी बात है| जैसे आप हमें सिखाती हैं?

आण्डाल दादी: हाँ वास्तव में इस से अधिक। क्योंकि पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) कैंकर्य में पूरी तरह से व्यस्त थे, वोह हमेशा भगवान नारायण की विभिन्न अद्भुत पहलुओं को श्रीआण्डाल को बताते हैं। श्रीआण्डाल पांच साल की कोमल उम्र में भी, सपना देखा कि भगवान नारायण उनसे शादी करेंगे और श्रीआण्डाल उनकी सेवा करेंगी।

पराशर: ओह दादी, पेरियाऴ्वार मुख्य कैनकर्यम क्या था?

आण्डाल दादी: उनका मुख्य कैंकर्य मंदिर उद्यान बनाए रखना था और हर दिन भगवान नारायण के लिए अच्छा माला तैयार करना था। वह अच्छे मालाओं को बनते ते और उन्हें घर पर रखते, अपने दिनचर्या करते और फिर मंदिर जाने के दौरान, वह अपने साथ माला को ले जाते और भगवान को माला प्रदान करते थे। जब वोह घर पर माला को रखते थे, श्रीआण्डाल उस माला को पेहनती थी और देखती थी के क्या वोह इस माला में सुन्दर दीखती हैं और सोचती थी के भगवान उन्हे इस माला में बहुत प्रेम के साथ देख रहे हैं|

व्यास: पेरियालवार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) को यह बिल्कुल नहीं पता था?

आण्डाल दादी: हाँ कई दिनों तक, उन्हे यह नहीं पता था, भगवान बहुत खुशी के साथ मालाओं को भी स्वीकार करते थे, क्योंकि उन मालाओं को श्रीआण्डाल ने शुशोभित किया और वोह भगवान को प्यारि थी। लेकिन एक दिन, पेरियालवार ने माला तैयार किया, इसे घर पर रखा और हर दिन की तरह बाहर चले गये। हमेशा की तरह अंडाल खुद माला पहनती हैं, बाद में, पेरियाऴ्वार फूलों की माला मंदिर मँ ले गए| लेकिन माला में बाल की एक स्ट्रिंग पाई गई थी और इस कारन वोह इस कारन वोह माला के साथ अपने घर वापस आ गाये। उन्हें एहसास हुआ कि उनकी बेटी ने यह पहना होगा, इसलिए उनने एक नया माला तैयार किया और इसे मंदिर में वापस ले गए। भगवान ने नई माला को स्वीकार करने से इनकार कर दिया और अंडालका का पेहना हुआ माला पूछा। पेरियालवार अपनी बेटी की भक्ति की गहराई और अपनी बेटी के  लिए भगवान का प्यार समझ गए और अंडाल द्वारा पहना गया माला के साथ वापस आ गए | पेरुमल ने इसे बहुत खुशी से स्वीकार किया |

पराशर और व्यास: श्री गोदाम्माजी के बारे में और भगवान के प्रति उनका प्यार सुनकर झूम उठे।

व्यास: उसके बाद क्या हुआ?

आण्डाल दादी: पेरुमल के लिए श्री आंडल की भक्ति दिन प्रति दिन बढ़ती गयी। श्री गोदाम्माजी, ने निविदा उम्र में, नाच्चियार तिरुमोलि, तिरुप्पावै का अनुवाद किया। माघशीर्षि के महीने के दौरान तिरुप्पावै सभी घरों और मंदिरों में पढ़ा जाता है। आखिरकार, पेरिया पेरुमल ने पेरियालवार से पूछा कि वह श्री गोदाम्माजी से शादी करने के लिए श्री रंगम मंदिर में लाने के लिए कहा। पेरियालार एक महान जुलूस में अंडाल के साथ श्रीरंगम मंदिर खुशी से पहुंचे। श्री गोदाम्माजी सीधे पेरिया पेरुमल सनिधि में चली गयी और पेरुमल ने अंडाल से शादी कर लिया और वह वापस परम पदम लौट आए।

पराशर: वापस परम पदम लौट आए इसका मतलब? क्या वह मूलतः परमपदम से थी?

आण्डाल दादी: हाँ वह खुद ही पृथ्वी देवी थीं | अन्य आळ्वार, के विपरीत, जो इस दुनिया से हैं और पेरूमल द्वारा आळ्वार, बनने के लिए आशीर्वाद पाया, अंदाल, हमें भक्ति के मार्ग में मार्गदर्शन करने के लिए परमपदम से उतरी। जैसे ही उनका काम खत्म हुआ वह वापस लौट गईं।।

पराशर: ओह, दादी यह जान कर बहुत अच्छा हुआ, यह तो उन्की दया है|

आण्डाल दादी: बहुत अच्छा। अब, आप दोनों को तिरुप्पावै सीखना और अभ्यास करना है, ताकि आप भी उन्हें माघशीर्षि महीने के दौरान पढ़ सकते हैं जो जल्द ही आ रहा है।

पराशर और व्यास: ज़रूर दादी, हम इसे अभी शुरू कर देते हैं |

आण्डाल दादी उन्हें पढ़ाने शुरू करती है और दोनों यह बहुत उत्सुकता से सीखते हैं |

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/12/beginners-guide-andal/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *