Category Archives: Stories

बालपाठ – तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार (विप्रनारयण/भक्तांघ्रिरेणु स्वामीजी )

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी)

periyaperumal-thondaradippodiazhwar

आण्डाल दादी, अपने घर के बाहर एक विक्रेता से फूल खरीदते है |पराशर और व्यास सुबह सुबह उठकर दादी के पास जाते है

व्यास: दादी, बस याद आया कि आपने कहा था कि दो आऴ्वार स्वामीजी थे, जिन्होंने पेरुमल को फूलों का कैंकर्य करते थे । हम जानते हैं कि उनमें से एक पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) थे । क्या आप हमें अब दूसर आऴ्वार स्वामीजी के बारे में बता सकते हैं?

आण्डाल दादी: व्यास आपके पास बहुत अच्छी याददाश्त है | जैसा कि आप इसके लिए पूछा, मैं आपको दूसरे अलवर के बारे में बताऊंगा जो फूलों का कैंकर्य पेरुमल को पेश करते थे |

पराशर और व्यास अगले आऴ्वार स्वामीजी के बारे में सुनने के लिए दादी के आसपास बैठें |

आण्डाल दादी: उनको तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार के नाम से जाना जाता है| उनके माता-पिता ने उन्हें विप्रनारायण का नाम दिया | उनका जन्म मार्गशीर्ष मास – ज्येष्ठा नक्षत्र कुम्बाकोनाम के पास तिरुमण्डंगुडि में हुआ था | श्री रंगनाथन उनको बहुत प्रिय थे| विप्रनारयण स्वामीजी नित्य भगवान श्रीरंगनाथ का कैंकर्यं करते| इतने प्रिय थे के उनहोने दो दिव्या प्रांबंधों में किसी भी अन्य पेरामल का उल्लेख नहीं किया है, एक तिरुमालई है और दूसरा एक तिरुपल्लिएऊचि है। ऐसा कहा जाता है कि जो तिरुमलाई को नहीं जानता, वह पेरूमल को समझने में सक्षम नहीं होगा।

पराशर: ओह!दादी यह क्या है? तो हम दोनों भी तिरुमलाई सीखेंगे।

आण्डाल दादी: मुझे यकीन है, आप इसे भी सीखेंगे। थिरुमलाई पूरी तरह से पेरिया पेरूमल की महिमा बताता है। क्या आप इन अज़व्वार का एक विशेष पहलू जानते हैं?

व्यास: दादी वो क्या है?

आण्डाल दादी: क्या आपने श्रीवेंकटेश्वर के सुप्रभातम का सबसे पहला श्लोक सुना है??

पराशर: हाँ दादी। (गाती है) “कौशल्या सुप्रजा राम …”

आण्डाल दादी: हाँ। क्या आप जानते हैं कि यह श्रीरामायणम से है? यह ऋषि विश्वामित्र द्वारा श्री राम को उठाने के लिए पढ़ाया जाता था | इसी तरह, पेरियाळ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी)ने भी अपने पाशरुम में कन्नन सम्राट को जगाते हैं । तोन्डरडिप्पोडि आळ्वार अपने प्रबंधम में श्रीरंगनाथन के लिए सुप्रभातम गाते है |

व्यास: ओह! यही वह है जिसे हम सुनते हैं कि अररियार स्वामी सुबह-शाम पेरिया पेरूमल के सामने मार्गशीर्ष मास के दौरान तिरुप्पावै का पाठ करते हैं।

आण्डाल दादी: हाँ। आप बहुत सही हैं आइए हम इन फूलों के साथ माला तैयार करें और पेरिया पेरुमल सनीधि में जाएं ।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/12/beginners-guide-thondaradippodi-azhwar/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

बालपाठ – श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी)

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी)

andal-birth-mirror

आण्डाल दादी सुबह दूधवाले से गाय का दूध इकट्ठा करती हैं और उसे अपने घर में लाती हैं।

दूध को गरम करने के बाद, वोह इसे पराशर और व्यास को देती हैं। पराशर और व्यास चलो  दूध पीलो|

पराशर: दादी, आपने उस दिन कहा था कि आप हमें बाद में आण्डाल के बारे में बताएंगी। क्या आप हमें अभी बता सकती हैं?

आण्डाल दादी: ओह, अरे हाँ। मुझे याद है। ज़रूर, अब समय है कि मैं आपको आण्डाल के बारे में बताती हूं |

आण्डाल दादी, व्यास और पराशर, तीनों बरामदा में बैठते हैं |

आण्डाल दादी: श्रीआण्डाल (श्री गोदाम्माजी) पेरियाअव्वार की बेटी थी, उनका जन्म श्रीविल्लिपुत्तूर में हुआ था, पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) को श्रीआण्डाल मंदिर के बगल के बगीचे में एक तुलसी के पौधे के निकट में मिली। वह आशड मास के पूर्व फाल्गुनी नक्षत्र में पैदा हुई थी। यह दिन तिरुवाडीपुरम के रूप में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। पेरियालवार  ने श्रीआण्डाल को नियमित भोजन के साथ साथ भगवान नारायण के प्रति भक्ति को भी नियमित भोजन की तरहा श्रीआण्डाल दिया।

व्यास: ओह, दादी यह तो बहुत अच्छी बात है| जैसे आप हमें सिखाती हैं?

आण्डाल दादी: हाँ वास्तव में इस से अधिक। क्योंकि पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) कैंकर्य में पूरी तरह से व्यस्त थे, वोह हमेशा भगवान नारायण की विभिन्न अद्भुत पहलुओं को श्रीआण्डाल को बताते हैं। श्रीआण्डाल पांच साल की कोमल उम्र में भी, सपना देखा कि भगवान नारायण उनसे शादी करेंगे और श्रीआण्डाल उनकी सेवा करेंगी।

पराशर: ओह दादी, पेरियाऴ्वार मुख्य कैनकर्यम क्या था?

आण्डाल दादी: उनका मुख्य कैंकर्य मंदिर उद्यान बनाए रखना था और हर दिन भगवान नारायण के लिए अच्छा माला तैयार करना था। वह अच्छे मालाओं को बनते ते और उन्हें घर पर रखते, अपने दिनचर्या करते और फिर मंदिर जाने के दौरान, वह अपने साथ माला को ले जाते और भगवान को माला प्रदान करते थे। जब वोह घर पर माला को रखते थे, श्रीआण्डाल उस माला को पेहनती थी और देखती थी के क्या वोह इस माला में सुन्दर दीखती हैं और सोचती थी के भगवान उन्हे इस माला में बहुत प्रेम के साथ देख रहे हैं|

व्यास: पेरियालवार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) को यह बिल्कुल नहीं पता था?

आण्डाल दादी: हाँ कई दिनों तक, उन्हे यह नहीं पता था, भगवान बहुत खुशी के साथ मालाओं को भी स्वीकार करते थे, क्योंकि उन मालाओं को श्रीआण्डाल ने शुशोभित किया और वोह भगवान को प्यारि थी। लेकिन एक दिन, पेरियालवार ने माला तैयार किया, इसे घर पर रखा और हर दिन की तरह बाहर चले गये। हमेशा की तरह अंडाल खुद माला पहनती हैं, बाद में, पेरियाऴ्वार फूलों की माला मंदिर मँ ले गए| लेकिन माला में बाल की एक स्ट्रिंग पाई गई थी और इस कारन वोह इस कारन वोह माला के साथ अपने घर वापस आ गाये। उन्हें एहसास हुआ कि उनकी बेटी ने यह पहना होगा, इसलिए उनने एक नया माला तैयार किया और इसे मंदिर में वापस ले गए। भगवान ने नई माला को स्वीकार करने से इनकार कर दिया और अंडालका का पेहना हुआ माला पूछा। पेरियालवार अपनी बेटी की भक्ति की गहराई और अपनी बेटी के  लिए भगवान का प्यार समझ गए और अंडाल द्वारा पहना गया माला के साथ वापस आ गए | पेरुमल ने इसे बहुत खुशी से स्वीकार किया |

पराशर और व्यास: श्री गोदाम्माजी के बारे में और भगवान के प्रति उनका प्यार सुनकर झूम उठे।

व्यास: उसके बाद क्या हुआ?

आण्डाल दादी: पेरुमल के लिए श्री आंडल की भक्ति दिन प्रति दिन बढ़ती गयी। श्री गोदाम्माजी, ने निविदा उम्र में, नाच्चियार तिरुमोलि, तिरुप्पावै का अनुवाद किया। माघशीर्षि के महीने के दौरान तिरुप्पावै सभी घरों और मंदिरों में पढ़ा जाता है। आखिरकार, पेरिया पेरुमल ने पेरियालवार से पूछा कि वह श्री गोदाम्माजी से शादी करने के लिए श्री रंगम मंदिर में लाने के लिए कहा। पेरियालार एक महान जुलूस में अंडाल के साथ श्रीरंगम मंदिर खुशी से पहुंचे। श्री गोदाम्माजी सीधे पेरिया पेरुमल सनिधि में चली गयी और पेरुमल ने अंडाल से शादी कर लिया और वह वापस परम पदम लौट आए।

पराशर: वापस परम पदम लौट आए इसका मतलब? क्या वह मूलतः परमपदम से थी?

आण्डाल दादी: हाँ वह खुद ही पृथ्वी देवी थीं | अन्य आळ्वार, के विपरीत, जो इस दुनिया से हैं और पेरूमल द्वारा आळ्वार, बनने के लिए आशीर्वाद पाया, अंदाल, हमें भक्ति के मार्ग में मार्गदर्शन करने के लिए परमपदम से उतरी। जैसे ही उनका काम खत्म हुआ वह वापस लौट गईं।।

पराशर: ओह, दादी यह जान कर बहुत अच्छा हुआ, यह तो उन्की दया है|

आण्डाल दादी: बहुत अच्छा। अब, आप दोनों को तिरुप्पावै सीखना और अभ्यास करना है, ताकि आप भी उन्हें माघशीर्षि महीने के दौरान पढ़ सकते हैं जो जल्द ही आ रहा है।

पराशर और व्यास: ज़रूर दादी, हम इसे अभी शुरू कर देते हैं |

आण्डाल दादी उन्हें पढ़ाने शुरू करती है और दोनों यह बहुत उत्सुकता से सीखते हैं |

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/12/beginners-guide-andal/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

बालपाठ – पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी)

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< कुलशेखर आळ्वार

periyazhvar

सुंदर रविवार की सुबह आण्डाल दादी अपने घर के बाहर बरामदा में बैठति हैं और भगवान विष्णु के लिए माला बनाती हैं। व्यास और पराशर इधर आओ और मेरे बगल में बरामदे पर बैठो| वे दोनों आण्डाल दादी को उत्सुकता से देखते हैं|

व्यास: दादी माँ आप क्या कर रहे हो?

आण्डाल दादी: भगवान विष्णु के लिए माला बना रही हूं, जो मुझे कुछ आल्वार कि याद दिलाता है? क्या आप उनमें से एक आल्वार के बारे में अब सुनना चाहेंगे?

पराशर : ओह ज़रूर दादी माँ, हम उत्सुकता से इसके लिए इंतजार कर रहे हैं |

आण्डाल दादी: ये हुई ना बात..मेरे अछे पोते |तो मैं आपको पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) के बारे में बताती हुन | उनका जन्म आनी महीने स्वाधीनक्षत्र में श्री विल्ली पुथथुर में हुआ था। उन्हें पट्टरपीरान भी कहा जाता था | वोह भगवान वाटपत्रसाईं के लिए माला बनाते थे | एक उत्कृष्ट दिन, पंडियन राज्य पर शासन करने वाले राजा ने विद्वानों के लिए एक चुनौती रख दी। उन्होंने घोषणा की कि वोह उस व्यक्ति को सोने के सिक्कों से भरा थैला प्रदान करेगा जो यह स्थापित कर सकता है कि सर्वोच्च देवता कौन है|

व्यास: दादी यह तो बहुत मुश्किल हुआ होगा, नहीं?

आण्डाल दादी: पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) के लिए ऐसा नहीं था। अपने भक्ति और पेरुमल की दया के कारण, वोह राजा के अदालत में गए और उन्होंने स्थापित किया कि भगवान नारायण वेदम के माध्यम से सर्वशक्तिमान हैं। राजा बहुत खुश हुआ और उसने इनाम की राशि पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) को दिया और उन्हें एक शाही हाथी पर मदुरै की सड़कों पर भेज दिया।

पराशर : दादी यह तो बहुत सुन्दर नज़ारा हुआ होगा|

आण्डाल दादी: हाँ परसार, वो बहुत सुन्दर नज़रा हुआ होगा। और यही वजह है कि पेरुमल स्वयं अपने गरुड़ की सवारी से परमपदम से नीचे आये। हालाँकि पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) एक हाथी के ऊपर सवार थे, वोह तब भी विनम्रथा और पेरुमल की सुरक्षा के बारे में चिंतित थे| इसलिए उन्होंने तिरुपल्लान्डु गाया और सुनिश्चित किया कि पेरुमल संरक्षित हैं। इसी तरह वोह पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) के रूप में जने जाने लगे। उन्होंने पेरियालवर थिरुवाइमोल्हि भी गाया|

व्यास: ओह। हाँ दादी मैं पल्लानडु पल्लानडु से परिचित हुन|यही है जो शुरुआत में हर रोज मंदिर में पढ़ा जाता है| हमने मंदिर में यह सुना है।

आण्डाल दादी: हाँ, तुम सही हो, पेरियाऴ्वार (श्री विष्णुचित्त स्वामीजी) के थिरूपप्लंडु को हमेशा शुरुआत और अंत में भी पढ़ा जाता है।

पराशर: यह तो बहुत अच्छी बात है दादी |हम इसे भी सीखेंगे और पेरूमल के सामने इसे पढ़ना शुरू करेंगे।

आण्डाल दादी: मुझे यकीन है, आप जल्द ही ऐसा करना शुरू कर देंगे। वैसे, वोह अंडाल के पिता भी थे, जिन्होंने सबसे लोकप्रिय थिरूपवाई गाया था| बाद में आपको अंडाल के बारे में अधिक बताउंगी, आइए हम चले और पेरुमल को माला पेश करें।

आण्डाल दादी माला पेरुमल को पेश करने के लिए व्यास और परसार के साथ श्री रंगनाथन मंदिर की तरफ बढ़ना शुरू करति हैं |

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/11/beginners-guide-periyazhwar/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

 

बालपाठ – मुदल् आऴ्वार – भाग 2

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< मुदल् आऴ्वार – भाग 1

mudhalAzhwargaL-thirukkovalur-with-perumAL

आण्डाल दादी: व्यास और पराशर मुदल् आऴ्वार सन्निधि से बाहर निकलते हैं ।

पराशर: दादी, मुदल् आऴ्वार को देखकर अच्छा लगा । दादी क्या ये 3 आऴ्वार सदैव एक साथ रहते हैं?

आण्डाल दादी: यह अच्छा सवाल है । उनका एक साथ रहने का एक कारण है । मुझे कृपया समझाने दो । एक दिन भगवान की दिव्य योजना से, वे तिरुक्कोवलूर में एक के बाद एक पहुंचे। प्रचण्ड वायु का वह दिन था । उस दिन भारी वर्षा भी हुई थी । वहां एक ऋषि थे, जिनका नाम मृकर्ण्डु था, जिनका तिरुक्कोवलूर में एक आश्रम था । अपने आश्रम के सामने, एक छोटा सा शाला था । पहले पोईगै आऴ्वार शाला में पहुंचे और वर्षा से स्वयं को बचाने के लिए शाला में शरण लिए । थोड़ी देर के लिए पोईगै आऴ्वार शाला में लेटकर शयन किए ।

पराशर: केवल अकेले? उनको डर नहीं लगा?

आण्डाल दादी: नहीं पराशर । वह निर्भय है क्योंकि वह हमेशा प्रभु का चिन्तन करते हैं । उस समय, भूतद् आऴ्वार वर्षा में वहां पहुंचते हैं और शाला में प्रवेश करने की अनुमति का अनुरोध करते हैं । पोईगै आऴ्वार कहते है कि, “यहां सीमित स्थान है एक व्यक्ति शयन कर सकता है लेकिन दो व्यक्ति बैठ सकते हैं । कृपया पधारें । ” भूतद् आऴ्वार खुशी से प्रवेश करते है और वे दोनों अगल-बगल मे बैठते हैं । तत्पश्चात, वर्षा में भागते हुए पेयाऴ्वार, आश्रय इच्छुक, शाला में प्रवेश करने की अनुमति मांगते है । पोईगै आऴ्वार कहते हैं, “ठीक है, यहां सीमित स्थान है। एक व्यक्ति नीचे लेट सकता है, दो व्यक्ति बैठ सकते हैं और तीन व्यक्ति खड़े हो सकते हैं । कृपया पधारें । हम सभी खड़े हो सकते हैं । ” यह सुनते ही पेय-आऴ्वार, खुशी से शाला में प्रवेश करते है और वे सभी वर्षा के ठंडक में कंधे से कंधा मिलाकर बैठते हैं । वे एक-दूसरे से बात करना शुरू करते हैं, एक-दूसरे के बारे में जानते हैं और सार्वजनिक हित के बारे में जानकर बहुत प्रसन्न होते हैं, वे भगवान् के सुंदर नाम, रूप, गुण, आदि के बारे में चर्चा करना प्रारम्भ करते हैं।

व्यास: वाह! यह बहुत अच्छा है। वास्तव में ईश्वरीय है । लेकिन दादी, यह और अच्छा होता, अगर भगवान् भी वहां उपस्थित होते, ठीक उसी तरह, जैसे ही वह हमें देखने के लिए यहां परिय पेरुमाळ् के रूप में है ।

आण्डाल दादी: रुको, घटना यहाँ समाप्त नहीं होती है । आपने अगले अनुक्रम को बहुत अच्छी तरह से अनुमान लगाया है । इस घटना क्रम में अधिक देवत्व है, अपने प्रिय भक्तों की सभा को देखकर, अब पेरूमाळ् भी इस का हिस्सा बनना चाहते है । पेरुमाळ् भी शाला में प्रवेश कर स्वयं को विवश करते है । अंधेरे होने और अचानक आश्रय शाला मे स्वयं को क्षेत्राभाव मे विवश मानकर, तीन आऴ्वार सोचते हैं – क्या हो रहा है यहाँ और किसने उनके ज्ञान के बिना शाला में प्रवेश किया । पहले पोईगै आऴ्वार “वय्यम् तगलिया” पासुर का गान शुरू करते हैं – जगत् को दीपक के रूप में देखते हैं । उसके बाद, फिर, भूतद् आऴ्वार “अन्बे तगलिया” गाते है – उनका प्रेम को ही एक दीपक के रूप में कल्पना करते है । इन दीपकों के प्रकाश से, शाला ज्योतिर्मय होता है, और पेय-आऴ्वार पहले श्रीमन्नारायण और श्रीमहालक्ष्मीजी के दिव्य रूप को शाला के बीच में देखते है । वह “तिरुकण्डेन्” पासुरगान प्रारम्भ करते है … (श्रीमहालक्ष्मीजी के साथ मुझे श्रीमन्नारायण, उनके दिव्य / सुंदर स्वर्ण रूप, उनका दिव्य शंख और चक्र) का दिव्य दर्शन प्राप्त हुआ है । सभी आऴ्वार एक साथ भगवान् और श्रीमहालक्ष्मी की दिव्य दृष्टि का आनंद लेते हैं ।

पराशर: यह इतना महान है, अवश्य उनको अत्यन्त हर्ष प्राप्त हुआ होगा ।

आण्डाल दादी: हां – वे बहुत खुश थे । श्रीभगवान् और श्रीलक्ष्मीजी भी बहुत खुश थे। इस अद्भुत घटना के बाद, उन्होंने एक साथ दिव्य अर्चा विग्रह वाले अन्य मंदिरों का दिव्य दर्शन किया । वह शेषकालपर्यन्त तक एक साथ रहे और अंततः परमपद पधारे ताकि प्रभु का सान्निध्य प्राप्त करें और उनकी सेवा करें ।

व्यास और पराशर: यह वृत्तांत सुनने के लिए बहुत अद्भुत  है । क्या हम अगले आऴ्वारोें के जीवन के बारे में अब सुनेंगे?

आण्डाल दादी: आपको उसके लिए अगली बार तक प्रतीक्षा करनी पड़ेगी ।  मैं अब जाकर कुछ भगवान के लिए खाना बनाती हूं, जो हम आज रात को खा सकते हैं । अब आपके खेलने का समय है अतः अब आप बाहर मज़ा कर सकते हैं ।

व्यास और पराशर: ज़रूर दादी, हम कल आपसे और अधिक सुनने के लिए वापस आएँगे।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/11/beginners-guide-mudhalazhwargal-part-2/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

 

बालपाठ – मुदल् आऴ्वार – भाग 1

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< आऴ्वारों का परिचय

आण्डाल दादी: व्यास और पराशर को श्रीरंगम मंदिर में मुदल् आऴ्वार सन्निधि में लेने जाने के लिए योजना बना रही है ताकि उन्हें मुदल् आऴ्वारों की महिमा समझा सकें ।

पोइगै आऴ्वार – सारयोगी

भूतदाऴ्वार – भूतयोगी

महदाह्वययोगी

आण्डाल दादी: व्यास और पराशर ! आज हम श्रीरंगम मंदिर में मुदल् आऴ्वार सन्निधि जाएंगे ।

व्यास और पराशर: दादी, उत्तम । आइये अब चलें ।

आण्डाल दादी: मैं आपको उनके बारे में थोड़ा सा बताना चाहती हूँ जब हम उनके सन्निधि की तरफ चलेंगे । मुदल् का मतलब पहले (प्रथम) । हम पहले से ही आऴ्वार के अर्थ को जानते हैं – जो भक्ति भाव में परिपूर्णतया निमग्न हैं । इसलिए, १२ आऴ्वारों में मुदल् आऴ्वार सबसे पहले हैं ।

व्यास:दादी, मुदल् आऴ्वार में बहुवचन का प्रयोग क्यों है ? क्या एक से अधिक “प्रथम” अाऴ्वार हैं ?

आण्डाल दादी: हा! हा! बहुत अच्छा सवाल । हां, आऴ्वारों मे, पहले ३ आऴ्वार हमेशा एक साथ उद्धृत होते हैं ।

पराशर: दादी क्यों ? क्या वे पांच पांडवों की तरह हमेशा एक साथ थे ?

आण्डाल दादी: बहुत अच्छा उदाहरण पराशर । हां – हालांकि पहले ३ आऴ्वारों का जन्म तीन अलग-अलग स्थानों पर हुआ था, लेकिन एक दिव्य घटना के माध्यम से, वे एक साथ आए और तिरुक्कोवलूर दिव्य देश में मिले और श्रीमन्नारायण की पूजा एक साथ मिलकर किये । उस घटना के बाद, ये आम तौर पर एक साथ उद्धृत होते हैं ।

व्यास: वह दिव्य घटना क्या थी दादी ? मैं इसके बारे में जानने के लिए उत्सुक हूं ।

आण्डाल दादी: निश्चित रूप से, मैं आपको उस घटना के बारे में बताऊंगी लेकिन इससे पहले, हम ३ आऴ्वार के बारे में थोड़ा सा समझते हैं । पहले आऴ्वार का नाम पोइगै आऴ्वार – सारयोगी है । दूसरे आऴ्वार – भूतदाऴ्वार – भूतयोगी है । तीसरे आऴ्वार – महदाह्वययोगी है ।

पराशर: कब और कहाँ दादा माँ पैदा हुए थे?

आण्डाल दादी: तीनों आऴ्वार पिछले युग में पैदा हुए थे – द्वापर युग (जब )। वह सभी सरोवर के फूलों से प्रकट हुए । पोइगै आऴ्वार – सारयोगीअश्वयुज मास के श्रवण नक्षत्र में कांञ्चीपुर में तिरुवेक्का दिव्यदेश के एक तालाब में प्रकट हुए थे ।भूतदाऴ्वार – भूतयोगी का प्राकट्य अश्वयुज मास के धनिष्ट नक्षत्र मे तिरुक्कडल्मल्लै दिव्यदेश में एक तालाब में हुआ था – अब आप इस जगह को महाबलीपुरम के नाम से जानते हैं । पेयाऴ्वार का प्राकट्य अश्वयुज मास के शतभिषक नक्षत्र मे तिरुमयिलै दिव्यदेश में एक कुएं में हुआ था – अब आप इस जगह को मयलापोर (mylapore) के नाम से जानते हैं।

व्यास: वाह ! फूलों से इनका प्रादुर्भाव हुआ था, (तो) क्या उनके माता-पिता नहीं हैं?

आण्डाल दादी: हां, वे अपने जन्म के दौरान भगवान् द्वारा आशीर्वाद पाये थे अत: उन्होंने पूरी तरह से श्रीदेवी और पेरूमाळ को माता-पिता के रूप में माना ।

पराशर: ओह, यह जानना बहुत अच्छा है । तो, वह तीनों कैसे मिले थे और वह दैवी-घटना क्या थी ?

आण्डाल दादी: ठीक है, वे व्यक्तिगत रूप से विभिन्न क्षेत्रों के लिए यात्रा कर रहे थे और कई स्थानों पर भगवान् की पूजा करते थे। यह उनका जीवन था – सिर्फ मंदिर जाना, पेरुमाळ की पूजा करें और कुछ दिनों तक वहां रहें और फिर अगले क्षेत्र की ओर जाएं।

व्यास: यह बहुत अच्छा लगता है – किसी और चीज की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है। दादी ! काश हम भी इस प्रकार कर सकते ।

आण्डाल दादी: हाँ । देखो हम मुदलाऴ्वार सन्निधि में आए हैं । आओ हम अंदर चलकर उनका भव्य दर्शन करें । उनके शेष जीवन की चर्चा वापसी मे जारी रहेगा ।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/11/beginners-guide-mudhalazhwargal-part-1/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

बालपाठ – श्रीमन्नारायण की दिव्य कृपा

श्री: श्रीमते शठकोपाये नमः श्रीमते रामानुजाये नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्री महालक्ष्मी जी की मातृ प्रकृति

 

व्यास और परसार ने एक सुंदर रविवार की सुबह अंडाल दादी को अमलनादिप्पिरान का पाठ करते हुए सुना ।

पराशर: दादी, आप क्या पाठ रही हैं ? हम प्रतिदिन सुनते हैं कि आप सुबह इसका पाठ करते हैं ।

अंडाल दादी: पराशर, इस प्रबन्ध को अमलनादिप्पिरान कहा जाता है । यह तिरुप्पाणाऴ्वार द्वारा रचित है जो 12 अाऴ्वारों में से एक है ।

periyaperumal-thiruppanazhwar

व्यास: आऴ्वार कौन हैं ? अमलनादिप्पिरान क्या है ? हम उनके बारे में अधिक जानना चाहते हैं दादी, क्या आप हमें बता सकते हैं ?

अंडाल दादी: मैं निश्चित रूप से आपको आऴ्वार और उनके कार्यों के बारे में बता सकती हूं, लेकिन इससे पहले आपको श्री रंगनाथ के बारे में कुछ और जानना होगा ।

व्यास: वह क्या, दादी?

अंडाल दादी: आप दोनों को उनकी दया के बारे में जानने की जरूरत है ।

पराशर: दादी कृपया हमें उनकी दया के  बारे में बताइए ।

अंडाल दादी: अब मैं आपको जो बताने जा रही हूं वह आपको समझने मे मुश्किल हो सकता है । इसलिए, ध्यान से सुनो, ठीक है न ?

पराशर और व्यास: जी अच्छा, दादी |

अाण्डाळ दादी: हमने पिछले विचारों में पहले देखा था कि कैसे श्रीमन्नारायण परमपद से श्री राम, कृष्ण, आदि के रूप में अवतार लेकर, और भगवान श्रीरंगनाथ से प्रारम्भ विभिन्न अर्चाविग्रह के रूप में विराजमान रहते हैं । वह अंतर्यामी भगवान के रूप मे हर एक जीव के अन्दर भी मौजूद हैं ।

पराशर और व्यास : अब अाण्डाळ दादी के प्रत्येक शब्द पर अत्यधिक ध्यान देते हुए ध्यान केंद्रित कर रहे हैं ।

अाण्डाळ दादी: क्या आप पिछली चर्चाओं से याद कर सकते हैं, कि वह इन विभिन्नरूपों में क्यों प्रकट होते है?

पराशर और व्यास: अरे हाँ दादी! हम जानते हैं कि वह हमें बहुत पसंद करते है इसीलिए तो वह हमारे साथ रहने के लिए नीचे आते है ।

अाण्डाळ दादी: उत्कृष्ट उत्तर ! आपने सिद्धांतों को बहुत अच्छी तरह समझ लिया है । न केवल वह हमारे साथ रहने के लिए अवतार लेते है, परन्तु वह हमें उनके साथ परमपद में लाने के लिए अंततः चाहते है ।

पराशर: क्यों दादी? उस जगह की क्या विशेषता है? क्या यह श्रीरंग से भी बेहतर है?

paramapadhanathan

अाण्डाळ दादी: हा! हा! बिल्कुल, श्रीरंगम बहुत अच्छा है लेकिन परम पद उनका शाश्वत निवास है, जहां शुद्ध आनंद है और हमारे लिए काफी अवसर हैं ताकि हम भगवान् जी की लगातार सेवा कर सकें । यहां देखें, हम मंदिर में जाते हैं, ब्रह्म उत्सव में भाग लेते हैं, लेकिन कुछ बिंदु पर हमें घर आना पड़ता है और अन्य लौकिक कार्यों को करना पड़ता हैं। परम पद में निरंतर खुशी ही रहती है और एेसी रुकावट नही होती है ।

व्यास: वाह ! यही तरीका मुझे पसंद है – निरंतर आनंद ।

अाण्डाळ दादी: इसके अलावा, यहां हमारे शरीर की क्षमता सीमित है – हम थके हुए होते हैं, कभी-कभी ठंडी, बुखा़र आदि भी प्राप्त करते हैं । परम पदम में, हम एक दिव्य शरीर प्राप्त करते हैं जिसमें इनमें से कोई परेशानी नहीं होती है। हम सदा दिव्य सेवा में संलग्न हैं और कभी भी थका हुआ या बीमार नहीं महसूस कर सकते हैं ।

पराशर: वाह! यह तो और भी बेहतर है । हमें परम पद लाने के लिए वह क्या करते है ?

अाण्डाळ दादी: उत्कृष्ट प्रश्न । वह अपनी असीमित दया से बहुत से कार्य करते है । दया अर्थात् दयालुता से दूसरों की सहायता करने है । वह खुद श्री राम, कृष्ण, रंगनाथ, श्रीनिवास इत्यादि के रूप में अवतार लेते है । लेकिन वह अभी भी अपने साथ हमें अधिक संख्या मे नहीं ला सके, क्योंकि बहुत से लोग आपको स्पष्ट रूप से समझ नहीं पाते हैं और (आपको) सर्वोच्च के रूप में स्वीकार नही करते हैं।

व्यास: लोग भगवान् जी को क्यों नहीं समझते हैं, जब वह उनके सामने है ?

अाण्डाळ दादी: ऐसा इसलिए है क्योंकि वह बहुत बड़े है, इसलिए कुछ लोग ईर्ष्या करते हैं और दूसरों को उनकी सर्वोच्चता के कारण उनके पास जाने से डर लगता है।

पराशर: ओह ठीक है । अब मेरी यह मानना है कि यह विषय आऴ्वारों की ओर मार्गदर्शित है ।

अाण्डाळ दादी: हाँ, शानदार । पेरुमाऴ् ने विचार किया । क्या आप जानते हैं कि शिकारी (हिरण) का शिकार कैसे हैं ? वे पहले महाप्रयास के साथ एक हिरण का पकड़ते हैं, फिर वे उस हिरण को अन्य हिरणों को आकर्षित करने के लिए प्रशिक्षित करते हैं। जब अन्य हिरण मूल हिरण द्वारा आकर्षित हो जाते हैं, तो शिकारी जल्दी से उन सभी को पकड़ते है।

व्यास: हाँ दादी मैंने सुना है कि हाथियों को पकड़ने के लिए उसी चाल को लागू किया जा रहा है।

अाण्डाळ दादी: हाँ । इसी तरह, पेरुमाऴ् अपनी निर्हेतुक दया से हर एक की सहायता करने के लिए, कुछ व्यक्तियों का चयन करते है और उन्हें पूर्ण भक्ति प्रदान करते है और उन्हें अपने बारे में और बाकी सब कुछ के बारे में पूर्ण ज्ञान देते है । ऐसे व्यक्ति जो पेरुमाऴ् के प्रति भक्तिभाव समर्पण में डूबे हुए हैं, उन्हें अाऴ्वार कहते है ।

पराशर: ओह तो,अाऴ्वार स्वामीजी के माध्यम से, कई लोग भक्त बनकर उनके पास पहुंचते हैं । वाह ! पेरुमाऴ् की यह एक महान योजना हैं ।

Azhwars

अाण्डाळ दादी: हाँ, याद रखें, यह उनकी महान दया है, कोई व्यक्ति स्वयं के प्रयासों से एक आऴ्वार संत नहीं बन सकते है। केवल भगवान की दया से, एक आऴ्वार बन सकते है क्योंकि किसी को अपने स्वयं के प्रयास के साथ परमेश्वर की ओर कुछ भक्ति विकसित करनी पड़ती है – परन्तु भक्त को भगवान् के प्रति पूर्ण भक्ति के लिए भगवान् की दया की आवश्यकता होती है । इसी तरह, काई भी अपने प्रयासों के माध्यम से कुछ ज्ञान विकसित कर सकते हैं – परन्तु सम्पूर्ण ज्ञान को प्राप्त करने के लिए, केवल ऐसे सर्वज्ञानसम्पन्न भगवान् ही ऐसे ज्ञान से दूसरों को आशीर्वाद दे सकते हैं ।

पराशर: हाँ, दादी अब हम समझते हैं । इन सिद्धांतों को समझाने में आप इतने अच्छे हैं और देखो, चूंकि आपने थोड़ा और अधिक कठिन विषय कहा है, हमने अपनी आँखों को भी झुकने नहीं दिया ।

अाण्डाळ दादी: हाँ । इससे पहले कि मैं आपको आज खेलने के लिए जाने को कहूं, मैं सिर्फ आपको अमलानदिप्पिराण के बारे में समझाती हूं, क्योंकि आपने पहले इसके बारे में पूछा था । यह तिरुप्पाणाऴ्वार (श्री योगिवाहन स्वामीजी) का प्रबन्ध है । इस प्रबन्ध के माध्यम से उन्होने पूरी तरह से पेरिय पेरुमाऴ् के दिव्य एवं सुंदर रूप का आनंद लिया है । 5 वें पासुर में, वह श्री रंगनाथ को कहते हैं : आप कई सालों से गंभीर तपस्या कर रहे हैं सिर्फ मेरे पापों से मु़झे मुक्त करने के लिए और आपको समझने में आप मेरी सहायता करें और आप तक पहुंचूँ । यही वजह है जहां श्रीमन्नारायण की दया के बारे में हमारी पूरी बातचीत शुरू हुई । अब, आपको पूरी चीज की अच्छी समझ है अगली बार, मैं आपको आलवार के बारे में अधिक समझाऊंगी । अब आप दोनों कुछ समय के लिए खेल सकते हैं |

पराशर और व्यास: दादी जी धन्यवाद। हम जल्द ही आऴ्वार के बारे में सुनेंगे

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/09/beginners-guide-sriman-narayanas-divine-mercy/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

 

 

बालपाठ – श्री महालक्ष्मी जी की मातृ प्रकृति

श्री: श्रीमते शठकोपाये नमः श्रीमते रामानुजाये नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्रीमन्नारायण का दिव्य अर्चा विग्रह और गुण

sriranganachiar-3

अगले दिन दादी, पराशर और व्यास को उत्तर गली के माध्यम से श्री रंगम मंदिर तक ले जाती हैं । जैसे ही वे मंदिर में प्रवेश करते हैं व्यास और पराशर को उनके दाहिने तरफ एक सन्निधि मिलती है ।

व्यास: दादी, यह किसकी सन्निधि है?

आण्डाल दादी: व्यास, यह श्री रंगनायकी (श्रीमहालक्ष्मी) जी की सन्निधि है।

पराशर: दादी, लेकिन हमने केवल भगवान् श्रीरंगानाथ को जुलूस में देखा था।

आण्डाल दादी: हां, पराशर । यह सही है । ऐसा इसलिए है, क्योंकि श्री रंगानायकी तायार अपने संनिधि से बाहर नहीं आती हैं । भगवान् श्रीरङ्गनाथ को स्वयं स्वभार्या का दर्शन करना पड़ता है जब भी उनको देखने की इच्छा हो ।

पराशर: ओह! ठीक है दादी इसका मतलब है, हमें उनको पास हर समय जाना चाहिए । अब, हमारे पास मंदिर का दौरा करने का एक और कारण है, जब भी हम श्रीरंगम में हैं |

श्री रंगानायकी तायर के दर्शन के बाद, वे सानिधि से बाहर निकलते हैं ।

आण्डाल दादी: मुझे आप दोनों को एक प्रश्न पूछने दो । जब आप दोनों खेल खेलने के बाद शाम को घर लौटते हैं, तो आपके पिता श्री कैसी प्रतिक्रिया करते है?

व्यास: दादी, उस समय वे गुस्सा हो जाते हैं |

आण्डाल दादी: क्या तुम्हारे पिताजी आपको सज़ा देते हैं?

पराशर: दादी हम शायद ही कभी दंड मिला हो| जब भी वह नाराज होते है, तो हमारी मां हमें दंड देने से रोक देती है |

आण्डाल दादी: उसी तरह, हम कुछ ऐसे गलत काम करते हैं जो भगवान चाहते है कि हम गलत काम न करें तथा वह हमें इसके लिए दंड देने की तरह महसूस करते है, उन दिनों के दौरान, माँ लक्ष्मी हमेशा हमें दंडित होने के लिए भगवान से बचाती है।

पराशर: दादी आप सही हैं, वह हमारी मां की तरह है |

आण्डाल दादी: कम से कम, भगवान् जी हथियार उठाते हैं हालांकि यह हमारी सुरक्षा के लिए है, लेकिन मां लक्ष्मी कमल के फूलों पर बैठते हैं क्योंकि वह बहुत नरम-स्वभाव वाली है। भगवान् जी तक पहुंचने के लिए आपको रंग-रंग गोपुर पार करने की आवश्यकता है, फिर प्रवेश द्वार, फिर गरुड़ संनिधि, ध्वजस्थम्भ और उसके बाद श्री रंगानाथ सन्निधि। लेकिन जैसे ही आप उत्तर उत्र गेट से प्रवेश करते हैं, आप मां लक्ष्मी सन्निधि तक पहुंचते हैं। वह हमसे इतनी नज़दीक है ।

व्यास: हाँ दादी |

आण्डाल दादी: यहां तक कि माता सीता के रूप में, उन्होंने श्री राम से काकासुर को बचाया था । इन्द्र के पुत्र काकासुर ने एक कौवा का रूप लिया और भगवती सीता देवी को परेशान किया । भगवान् श्री राम उसे सज़ा देने जा रहे था । लेकिन मां लक्ष्मी ने कृपापूर्वक भगवान् श्री राम से काकासुरा को बचा लिया । इसी तरह, अशोक वन में माता सीता ने जब भगवान् श्री राम ने रावण का वध किया, तब भगवान श्री राम से सभी राक्षसों को बचाया था । हनुमान सभी राक्षसों को मारना चाहते थे जो हमारी मां को परेशान करते थे । लेकिन माँ सीता उन्हें बचाती है और हनुमान को बताती हैं कि वे उस समय असहाय थे और रावण के आदेशों का पालन करती थी। इस तरह मातृभाव से, वह लगातार हर एक की रक्षा करने की कोशिश करती है |

मां सीता काकासुरा को बचाती है

मां सीता काकासुरा को बचाती है

मां सीता राक्षसों द्वारा घिरे हुए है

पराशर और व्यास: दादी आशा है कि मां लक्ष्मी हमें हर समय बचा लेंगे |

आण्डाल दादी: वह निश्चित रूप से करेंगे | वह हमेशा हमारी रक्षा करने के लिए भगवान जी से अनुग्रह करती जो कि उनका प्राथमिक कर्तव्य है।

पराशर: दादी माँ क्या वह सभी कुछ करती है हैं? मेरा मतलब है मेरा मतलब भगवान् जी के साथ हमारे पक्ष में बात करना है?

आण्डाल दादी: ठीक है। वह तब तक ऐसा करती है जब तक भगवान जी हमें स्वीकार नहीं करते । लेकिन एक बार भगवान जी हमें स्वीकार करते है, मां लक्ष्मी भी भगवान् जी के साथ बैठती है और उनके प्रति हमारी भक्ति और सेवा का आनंद लेती है ।

व्यास: दादी, वह कैसे?

आण्डाल दादी: इसको समझना बहुत आसान है। जब आप अपने माता-पिता की सेवा करते हैं, क्या तुम सिर्फ अपने पिता की सेवा करते हो??

पराशर: नहीं, दादी, माता और पिता दोनों समान रूप से हमारे लिये प्रिय हैं । हम उन दोनों की सेवा करना चाहते हैं ।

आण्डाल दादी: हाँ – तुमने सही समझा । इसी तरह, मां लक्ष्मी हमें प्रभु तक पहुंचने के लिए मदद करती है । लेकिन एक बार जब हम प्रभु तक पहुंच जाते हैं, तो वह हमारी प्रेमपूर्ण भक्ति को प्रभु के साथ स्वीकार करती है।

मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु- एक साथ फाल्गुन उत्तर नक्षत्र के दिन

पराशर और व्यास: वाह ! दादी यह समझने में बहुत आसान है और अगली बार हम और सुनने की उम्मीद करते हैं। हम बाहर जाना चाहते हैं और कुछ समय के लिए खेलना चाहते हैं।

पराशर और व्यास फिर खेलने के लिए बाहर चले जाते है!

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/08/beginners-guide-sri-mahalakshmis-motherly-nature/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

 

बालपाठ – श्रीमन्नारायण का दिव्य अर्चा विग्रह और गुण

श्री: श्रीमते शठकोपाये नमः श्रीमते रामानुजाये नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्रीमन्नारायण कौन है ?

व्यास और पराशर अपने दोस्तों के साथ खेलने के बाद, आण्डाल दादी के घर वापस आकर उन्होंने देखा कि आण्डाल दादी एक पात्र में फल, फूल और सूखे फल की व्यवस्था कर रही है ।

व्यास: दादी, आप किसके लिए इन फलों और फूलों की व्यवस्था कर रहे हैं ?

आण्डाल दादी: व्यास, अब श्री रंगनाथ कि सवारी का समय है और वह हमें रास्ते पर मिलेंगे । जब कोई हमारे मेहमान, विशेष रूप से बड़ों के रूप में हमारे पास आते है, तो उनका ध्यान रखना हमारा परम कर्तव्य है । वह भी जब एक भव्य शाश्वत राजा हमें मिलते हैं, तो हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि उनका अच्छी तरह से ध्यान रखा जाए ।

पराशर: ओह निश्चित रूप से दादी, उसके बाद, मैं भगवान श्री रंगनाथ को फल और फूल अर्पण करूँगा जब वह आते हैं।

आण्डाल दादी: पराशर आओ, ये बहुत अच्छा है, उनके आगमन के लिये प्रवेश द्वार पर प्रतीक्षा करें।

नम्पेरुमाऴ (श्री रंगनाथ) आण्डाल दादी के घर के सामने आते है । श्री रंगनाथ को फलों और फूलों अर्पण करते हुए पराशर को प्रकाश मिलता है |

पराशर: दादी, वह अपने बाएं हाथ में क्या धरे है?

दायें हाथ में चक्र (सुदर्शन), बाएं हाथ में शंख (शंख), कंधे से ऊपर, दाहिना-हाथ अभय मुद्रा स्थिति में (भगवान् का दाहिना हाथ सुरक्षा प्रदान करने के लिए तैयार रहता है), और उनके कंधे से नीचे बाएं हाथ में गदा रहती है |

आण्डाल दादी: पराशर, वह अपने बाएं हाथ में गदा धरे है । श्री रंगनाथ का दिव्य अर्चाविग्रह चतुर्भुजी है अर्थात् उनके चार हाथ हैं । बाएं हाथ वाले कंधे पर, वह शंख धरे है और दाहिने हाथ वाले कंधे से ऊपर एक सुदर्शन चक्र को धरे है । वह अपने हथियारों से हमें सूचित करते है, कि वे हमेशा हमारी देखभाल करने के लिए और हमारी कठिनाइयों को नष्ट करने के लिए तत्पर हैं ।

व्यास: दादी,दाहिना हाथ क्या दर्शाता है?

दाहिना-हाथ अभय मुद्रा स्थिति में-भगवान का दाहिना हाथ सुरक्षा प्रदान करने के लिए तैयार रहता है |

दाहिना-हाथ अभय मुद्रा स्थिति में -भगवान का दाहिना हाथ सुरक्षा प्रदान करने के लिए तैयार रहता है |

आण्डाल दादी: यह एक अच्छा सवाल है । उनका दाहिना हाथ प्यारपूर्वक हमारे ओर निर्देशित है अर्थात् “मैं तुम्हारी देखभाल करने के लिए यहां हूं, इसलिए भय न करो” और हम सभी उनकी प्यारभरी पर्वरिश को जानने के लिए भी निर्देशित है । वैसे ही जैसे एक गाय अपने बछड़े की ओर दौड़ति है, जब बछड़े को उसके माँ कि जरूरत होती है, भले ही इससे पूर्व बछड़े का असद्व्यवहार हो ।

लंबा मुकुट (वर्चस्व) और मुस्कुराता हुआ चेहरा (सादगी)

व्यास: ठीक है, दादी फिर, फिर, उनके सिर पर वह क्या रहता है?

आण्डाल दादी: व्यास यह एक मुकुट है, इससे पता चलता है कि वह इस संपूर्ण ब्रम्हांड के मालिक है।

पराशर: दादी, मुकुट बहुत अच्छा लगता है, यह अपने आराध्य के चेहरे पर सटीक है ।

आण्डाल दादी: हाँ, वह सबसे प्यारा चेहरा है| वह हमेशा हमारे साथ खुश रहते है । जब भी वह तुम्हारे जैसे बच्चों के बीच है, वह और भी खुश रहते है |

पराशर: हाँ, दादी, मैंने उसे बहुत करीब से देखा था । मैं भी उन्हें मुस्कुराता देख सकता था और भगवान् के चरण कमलों को भी करीब से देखा है।

आण्डाल दादी: ओह, यह अच्छा है पराशर | हम आमतौर पर निविदा और सुंदर प्रकृति के कारण उनके चरणों को चरण कमल कहते हैं | उनके मुस्कुराते चेहरे से यह संकेत मिलता है कि वह आसानी से हमारे साथ रहने के लिए खुशी से श्री वैकुण्ठ से उतरे हैं | उनके चरण कमल इतने दृढ़ता से पीठ (कमल के फूलों का आधार) पर स्थित हैं, जिसका अर्थ है कि वह हमारे लिए नीचे आये और वह हमें कभी नहीं छोड़ेंगे | आज तो हमने उनके अर्चा विग्रह रूप के में कुछ शुभ गुणों को देखा है, अर्थात् वात्सल्य (मातृभावना – वह हमें बचाने में अपना हाथ दिखाते है), स्वामित्व (सर्वोच्चता – लंबा मुकुट), सौशील्य (हमारे साथ स्वतंत्र रूप से मिश्रण-अपने सुंदर चेहरे में वर्तमान मुस्कान) और सौलभ्य (सुलभता या सुगमता) – उनके चरण कमल को पकड़ना आसान है) ।

जैसे ही भगवान् की सवारी, व्यास और पराशर के पास से गुजरता है, वे खड़े होकर भगवान् की सवारी को भक्ति विभोर हो कर देख रहे थे ।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन्

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/08/beginners-guide-sriman-narayanas-divine-archa-form-and-qualities/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

ஸ்ரீவைஷ்ணவம் – பால பாடம் – எம்பார்

ஸ்ரீ: ஸ்ரீமதே சடகோபாய நம: ஸ்ரீமதே ராமானுஜாய நம: ஸ்ரீமத் வரவரமுநயே நம:

ஸ்ரீவைஷ்ணவம் – பால பாடம்

<< ராமானுஜர் – பகுதி – 2

பராசரன், வ்யாசன், வேதவல்லி, அத்துழாய் நால்வரும் ஆண்டாள் பாட்டியின் வீட்டிற்கு வருகிறார்கள்.

பாட்டி : வாருங்கள் குழந்தைகளே. கை கால்களை அலம்பிக் கொள்ளுங்கள். நான் உங்களுக்கு கொஞ்சம் ப்ரசாதம் தருகிறேன். நாளைய தினத்திற்கு என்ன சிறப்பு தெரியுமா? நாளைக்கு ஆளவந்தாரின் திருநக்ஷத்ரம் ஆகும், ஆடி, உத்ராடம். உங்களில் யாருக்கு ஆளவந்தாரை நினைவிருக்கிறது ?

அத்துழாய் : எனக்கு நினைவிருக்கிறது. அவர் தாம் ராமானுஜரை ஸம்ப்ரதாயத்திற்குள் அழைத்துவர தேவப் பெருமாளை ப்ரார்த்தித்தவர்.

வ்யாச : ஆமாம். மேலும், அவர் பரமபதத்தை அடைந்த பிறகு அவருடைய திருமேனியில் அவருடைய ஈடேறாத மூன்று ஆசைகளை குறித்தவாறு மடங்கியிருந்த அவருடைய மூன்று விரல்களைக் கண்டு ராமானுஜர் அவற்றை நிறைவேற்ற ப்ரதிக்ஞை செய்தார். ராமானுஜர் ப்ரதிக்ஞைகளை செய்தவுடன் அவ்விரல்கள் பிரிந்தன.

பராசர :  ராமானுஜருக்கும் ஆளவந்தாருக்கும் இடையே இருந்த உறவு மனத்தாலும் ஆன்மாவினாலும் இயைந்தது, தேஹத்திற்கு அப்பாற்பட்டது என்று நீங்கள் சொன்னதும் எங்களுக்கு நினைவிருக்கிறது பாட்டி.

பாட்டி : மிகச்சரி! நாளை அவருடைய திருநக்ஷத்ரம் ஆகும். இந்தாருங்கள், இப்பிரசாதங்களைப் பெற்றுக் கொள்ளுங்கள்.  ராமானுஜரை ஸம்ப்ரதாயத்திற்குள் கொணர்ந்த மஹாசார்யரை மறவாமல் நாளை நீங்கள் எல்லாரும் கோயிலுக்கு சென்று சேவிக்க வேண்டும். மேலே இன்று நம்முடைய அடுத்த ஆசார்யரான எம்பாரைப் பற்றித் தெரிந்து கொள்ளலாம். எம்பார் மதுரமங்கலத்தில் கமலநயன பட்டருக்கும் ஸ்ரீதேவி அம்மாளுக்கும் புதல்வராக அவதரித்தவர்.  பிறப்பில் அவருக்கு இட்ட பெயர் கோவிந்தப் பெருமாள் என்பதாகும். அவரை கோவிந்த பட்டர், கோவிந்த தாசர், ராமானுஜபதச் சாயையார் என்றும் அழைப்பார்கள்.  அவர் எம்பெருமானாருடைய (தாயாரின் தங்கையின் பிள்ளை) தம்பியாவார், ராமானுஜருக்கு ஏற்பட்ட ஆபத்திலிருந்து அவரைக் காப்பாற்றியவரும் அவர் தாம்.

வேதவல்லி : உயிருக்கு இருந்த ஆபத்தா? நான் ராமானுஜருக்கு ஒரு முறைதான் ஆபத்து ஏற்பட்டது, அதிலிருந்து அவரைக் கூரத்தாழ்வானும் பெரிய நம்பியும் தாம் காப்பாற்றினார்கள் என்று எண்ணியிருந்தேனே. அவருக்கு எத்தனை ஆபத்துகள் தான் நேர்ந்தன பாட்டி?

பாட்டி : பல தடவைகள்! அவற்றை நான் நேரம் வரும்பொழுது சொல்கிறேன். அவருடைய குருவான யாதவப்ரகாசர் தாம் முதலில் அவரை முதலில் கொல்ல எண்ணிணார். வேதங்களின் உட்பொருளைக் குறித்து ராமானுஜருக்கும் யாதவப்ரகாசருக்கும் கருத்து வேறுபாடுகள் இருந்து வந்தது. யாதவப்ரகாசர் வேதத்தின் சில வாக்கியங்களுக்கான பொருளை தவறாகவும் திரிபாகவும் கூறி வந்தார். ராமானுஜர், அவற்றைக் கேட்கும் பொழுது மிகவும் வருந்தி நம் விசிஷ்டாத்வைத ஸம்ப்ரதாயத்தில் கூறியுள்ள உண்மை கருத்தினை தெரிவிப்பார். யாதவப்ரகாசர் அத்வைதியாகையால், அவற்றுக்கு ராமானுஜர் கூறும் விளக்கங்களை ஒப்புக் கொண்டதில்லை. ராமானுஜர் கூறி வந்த பொருள் உண்மையென்று அறிந்தவராகையால் அவரைத் தமக்குப் போட்டியாகக் கருதத் தொடங்கினார்.   ஆசார்யர் என்ற நிலைக்கு ராமானுஜர் தமக்குப் போட்டியாக வந்து விடுவார் என்ற எண்ணம் அவருக்கு ஏற்பட்டது; ஆனால் ராமானுஜருக்கோ அது போன்ற நோக்கமே இல்லை.  இது யாதவப்ரகாசரின் மனத்தில் ராமானுஜர் மீது வெறுப்பும் பொறாமையும் கொள்ளக் காரணமாக அமைந்தது. அவர் வாரணாசிக்கு யாத்திரையாக தம் சிஷ்யர்களுடன் செல்லும் பொழுது ராமானுஜரைக் கொல்ல வேண்டும் என்று திட்டமிட்டார். இச்சூழ்ச்சியினை அறிந்த கோவிந்தப் பெருமாள் ராமானுஜரை அக்குழுவுடனான யாத்திரையினைத் தொடர்ந்து மேற்கொள்ள வேண்டாமென்று எச்சரித்தார்.  அவர் ராமானுஜரைத் தமது உயிரைக் காக்கும் பொருட்டு தெற்கில் காஞ்சிபுரம் நோக்கி செல்லுமாறு கேட்டுக் கொண்டார். ராமானுஜரும் அவ்வாறே செய்து அவரது குருவின் சூழ்ச்சியிலிருந்து தப்பித்தார். இவ்வாறு கோவிந்தப் பெருமாள் ராமானுஜரை ஆபத்திலிருந்து காத்தார்.

வ்யாச : பாட்டி, கோவிந்தப் பெருமாளும் யாதவப்ரகாசரின் சிஷ்யரா?

எம்பார்மதுரமங்கலம்

பாட்டி : ஆமாம் வ்யாசா. ராமானுஜர், கோவிந்தப் பெருமாள் இருவருமே யாதவப்ரகாசரிடம் கல்வி பயின்று கொண்டிருந்தவர்கள். ராமானுஜர் தம்மைக் காத்துக் கொள்ளும் பொருட்டு தெற்கு திசையில் சென்றாலும், கோவிந்தப்பெருமாள் யாத்திரையில் தொடர்ந்து சென்று சிவபக்தராகி காளஹஸ்தி என்னும் இடத்தில் தங்கி உள்ளங்கை கொண்ட நாயனார் என்று அழைக்கப்படலானார். இதனை அறிந்த ராமானுஜர், கோவிந்தப் பெருமாளை திருத்தி நம் ஸம்ப்ரதாயத்தில் திருப்பும் பொருட்டு தம் மாமாவாகிய பெரிய திருமலை நம்பியை அனுப்பினார். பெரிய திருமலை நம்பியும் காளஹஸ்த்திக்கு சென்று நம்மாழ்வாருடைய பாசுரங்களையும் ஆளவந்தாருடைய ஸ்தோத்ர ரத்னத்தின் ச்லோகங்களையும் கொண்டு கோவிந்தப் பெருமாளைத் திருத்தினார். கோவிந்தப் பெருமாளும் தம் தவறை உணர்ந்து நம் ஸம்ப்ரதாயத்திற்குத் திரும்பினார்.  ஆக குழந்தைகளே, ஆளவந்தார் பரமபதித்து விட்டாலும் ராமானுஜரை மட்டுமின்றி அவரது சகோதரராகிய கோவிந்தப் பெருமாளையும் நம் ஸம்ப்ரதாயத்திற்குள் ஈர்க்கக் கருவியாக இருந்தார். நம் ஸம்ப்ரதாயத்திற்குள் அவரை ஈர்த்த பெரிய திருமலை நம்பியே அவருக்கு ஆசார்யராக பஞ்ச சம்ஸ்காரம் செய்து வைத்தார். பெரிய திருமலை நம்பியும் திருப்பதிக்கு திரும்ப செல்ல அவருடன் கோவிந்தப் பெருமாளும் சென்று தம் ஆசர்யருக்கு கைங்கர்யங்கள் செய்யலானார். இங்கு நாம் கவனிக்க வேண்டிய பொருள் என்னவென்றால் கோவிந்தப் பெருமாளை திருத்தும் பொருட்டு ராமானுஜரும் பெரிய திருமலை நம்பியுமே அவரிடத்தில் சென்றார்களேயன்றி, அவர்களை அவர் அணுகவேயில்லை. தம் சிஷ்யர்களின் மேன்மைக்காக இத்தகைய அக்கறை கொண்டு அவர்களிடம் சென்று திருத்துவோரை க்ருபா மாத்ர ப்ரசன்னாசார்யர்கள் என்பர். எம்பெருமான் போன்றே அளவற்ற அன்போடும் கருணையோடும் சிஷ்யர்களை நோக்கிச் செல்கின்றனர். கோவிந்தப் பெருமாளுக்கு ராமானுஜர், பெரிய திருமலை நம்பி இருவருமே க்ருபா மாத்ர ப்ரசன்னாசார்யர்கள்தாம்.

பராசர : பாட்டி, கோவிந்தப் பெருமாளைப் பற்றி மேலும் சொல்லுங்கள். அவர் என்ன கைங்கர்யங்கள் செய்தார்?

பாட்டி: கோவிந்தப் பெருமாள் தம் ஆசார்யர் பெரிய நம்பியினிடத்தில் கொண்டிருந்த அபிமானத்தைக் காட்ட பல சம்பவங்கள் உள்ளன. ஒரு தடவை தம் ஆசார்யருக்கான படுக்கையினைத் தயாரிக்கும் பொழுது அவரே அதில் படுத்துப் பார்த்தார். நம்பி கோவிந்தப் பெருமாளை அது குறித்து விசாரித்தார். கோவிந்தப் பெருமாள், அம்மாதிரிச் செய்வதனால் தம் ஆசார்யரின் படுக்கை பாதுகாப்பாகவும் சரியாகவும் இருத்தலே தம் நோக்கம் என்றும், அதனால் தாம்  நரகத்துக்கே போவதானாலும் பொருட்டில்லை என்றும் பதிலளித்தார். இதனைக் கொண்டு அவர் தம்மையே கருத்தில் கொள்ளாமல், ஆசார்யரிடத்தில் கொண்டிருந்த அபிமானத்தையும் ஆசார்யருடைய திருமேனியின் மீது அவர் கொண்டிருந்த கவனத்தையும் புரிந்து கொள்ளலாம். அக்காலகட்டத்தில் ராமானுஜர் ஸ்ரீராமாயணத்தின் சாரத்தை, பெரிய நம்பியிடமிருந்து கற்றுக்கொள்ள திருப்பதியில் இருந்தார். ஒரு வருட காலம் நம்பியிடமிருந்து கற்றுக்கொண்டு அவர் அங்கிருந்து புறப்பட ராமானுஜரைத் தம்மிடம் ஏதாவது பெற்றுக் கொள்ளுமாறு நம்பி கூறினார். ராமானுஜர் கோவிந்தப் பெருமாளைக் கேட்க, நம்பியும் உகப்புடன் ராமானுஜருக்குத் தொண்டு புரியும் பொருட்டு கோவிந்தப் பெருமாளைக் கொடுக்க ஒப்புக்கொள்கிறார். இதனை அறிந்த கோவிந்தப் பெருமாள், பெரிய திருமலை நம்பியிடமிருந்து பிரிவதை எண்ணிச் சோகமடைந்தார்.

வ்யாச : பாட்டி, நம்பி ஏன் கோவிந்தப் பெருமாளை ராமானுஜருடன் அனுப்பினார்? கோவிந்தப் பெருமாள் தம் ஆசார்யருக்கு அபிமானத்துடன் கைங்கர்யங்கள் புரிந்து கொண்டிருக்கும் பொழுது அவரை விட்டு ஏன் பிரிய வேண்டும்?

பாட்டி : வ்யாசா, கோவிந்தப் பெருமாள் ராமானுஜருக்குப் பல தொண்டுகள் புரிந்தே நம் ஸம்ப்ரதாயத்தில் முக்கிய இடம் பெற்றவர். அவருடைய குழந்தைப் பருவத்திலிருந்தே அவர் ராமானுஜரிடம் மிகுந்த அன்பும் பாசமும் கொண்டிருந்தார். ராமானுஜர் பரமபதத்திற்கு ஏகியதும், பராசர பட்டரையும் ராமானுஜரின் மற்ற சிஷ்யர்களையும் வழி நடத்தினார். அவருக்கு இத்தனை பொறுப்புகளும் ஆற்ற வேண்டிய கடமைகளும் இருந்ததாலேயே, தம் ஆசார்யர் பெரிய திருமலை நம்பியை விட்டு பிரியும் தியாகத்தைச் செய்து ராமானுஜரைத் தம் வழிகாட்டியாக ஏற்றுக் கொண்டார். பிற்காலதில் அவர் ராமானுஜரையே தம் அனைத்தாகவும் ஏற்றுக்கொண்டு, ராமானுஜரின் திருமேனி அழகைக் காட்டும் பாசுரம் ஒன்றையும் அருளினார். இதை “எம்பெருமானார் வடிவழகு பாசுரம்” என்று அழைப்பார்கள். நான் போன தடவை சொன்னது போலவே, ஸம்ப்ரதாய விஷயங்களில் பொதுவான நன்மையின் பொருட்டு, தியாகங்கள் செய்ய நீங்கள் தயாராக இருக்க வேண்டும். அதைத் தான் கோவிந்தப் பெருமாளும் செய்தார்.

அத்துழாய் : கோவிந்தப் பெருமாளுக்கு விவாகம் நடந்ததா? அவருக்குக் குழந்தைகள் இருந்தனரா?

பாட்டி : கோவிந்தப் பெருமாள் எல்லோரிடத்திலும் எப்பொருளிலும் எம்பெருமானையே காணுமளவுக்கு பகவத் விஷயத்தில் ஈடுபட்டிருந்தவர். அவருக்கு விவாகம் நடந்திருந்தாலும், கோவிந்தப் பெருமாள் பகவத் விஷயத்தில் கொண்டிருந்த ஈடுபாட்டைக் கண்டு, எம்பெருமானார் அவருக்கு ஸந்யாஸாச்ரமத்தில் ஈடுபடுத்தி அவருக்கு எம்பார் என்று பெயரும் இட்டார். அவருடைய இறுதி நாட்களில், எம்பார் இத்தகைய சிறந்த ஸ்ரீவைஷ்ணவ ஸம்ப்ரதாயத்தை மேலே நடத்திச் செல்லுமாறு பராசர பட்டரைப் பணித்தார். எக்காலத்திலும் எம்பெருமானாருடைய பாதக்கமலங்களை தியானித்து “எம்பெருமானார் திருவடிகளே சரணம்” என்று அனுசந்தித்துக் கொண்டு இருக்குமாறு அவர் பராசர பட்டரைப் பணித்தார். தம்முடைய ஆசார்யர் ராமானுஜரின் திருவடித் தாமரைகளை தியானித்த வண்ணம், தம்முடைய ஆசார்யரிடம் அவர் அளித்த ப்ரதிக்ஞையகளை நிறைவேற்றியபின், தம்முடைய ஆசார்யருக்கு மேலும் கைங்கர்யங்கள் செய்யும் பொருட்டு எம்பார் பரமபதத்தை அடைந்தார். தம்முடைய ஆசார்யர் நடத்திய வழியில், பட்டரும் அப்பழுக்கற்ற குன்றாத மரபு கொண்ட நம் ஸம்ப்ரதாயத்தை மேலும் வழிநடத்தினார்.

வேதவல்லி : பட்டரைப் பற்றி இன்னும் சொல்லுங்கள் பாட்டி.

பாட்டி : பட்டரைப் பற்றி மேலும் நான் அடுத்த தடவை உங்களுக்குச் சொல்வேன். இப்பொழுது இருட்டி விட்டதால் உங்கள் வீடுகளுக்குச் செல்லுங்கள். நாளைய ஆளவந்தார் திருநக்ஷத்ர தினத்தில் கோயிலுக்கு மறவாமல் செல்லுங்கள்.

குழந்தைகள் ஆளவந்தார், பெரிய திருமலை நம்பி, ராமானுஜர், எம்பாரைப் பற்றி எண்ணியவாறு தங்கள் வீடுகளுக்குப் புறப்படுகின்றனர்.

அடியேன் கீதா ராமானுஜ தாசி

ஆதாரம்: http://pillai.koyil.org/index.php/2016/08/beginners-guide-embar/

வலைத்தளம் – http://pillai.koyil.org/

ப்ரமேயம் (குறிக்கோள்) – http://koyil.org
ப்ரமாணம் (க்ரந்தங்கள்) – http://granthams.koyil.org
ப்ரமாதா (ஆசார்யர்கள்) – http://acharyas.koyil.org
ஸ்ரீவைஷ்ணவக் கல்வி வலைத்தளம் – http://pillai.koyil.org/

बालपाठ – श्रीमन्नारायण कौन है ?

श्री: श्रीमते शठकोपाये नमः श्रीमते रामानुजाये नमः श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< श्रीवैष्णव संप्रदाय से परिचय

आण्डाळ दादी पराशर और व्यास को साथ में श्रीरंगम मंदिर ले जाती है |

व्यास:  वाह  दादी, यह एक विशाल मंदिर है | हमने इससे पहले इतना बड़ा मंदिर नहीं देखा । हमने ऐसे विशाल महलों में रहने वाले राजाओं के बारे में सुना है। क्या हम एक ही राजा के दर्शन करने जा रहे हैं?

आण्डाळ दादी: हां, हम सभी के राजा, श्रीरंगराज को देखने जा रहे हैं| श्रीरंगराज (श्री रंगम के राजा), श्रीरंगम में उन्हें प्यार के साथ पेरिय पेरुमाळ और नम्पेरुमाळ (हमारे प्रभु) कहते हैं| भगवान् श्रीमन्नारायण शेष नारायण पर अर्धशायी स्थिति में आराम करते हुए अपनी सर्वोच्चता और स्वामित्व को उजागर करते हैं| वह अपने भक्तों की प्रतीक्षा करते है और जब भक्त उनसे मिलने जाते हैं तो उन्हें आशीर्वाद प्रदान करते है| जबकि नम्पेरुमाळ सुलभता (सौलभ्य) दर्शाते है, अर्थात् जो आसानी से प्राप्य है, वह भगवान अपने भक्तों की कठिनाइयों को समझते हैं, जो उन तक जाने में सक्षम न हो | इसलिए वह उन्हें अपने ब्रह्म-उत्सव (सावरी / जुलूस) (पुरप्पाडु) के भाग में दर्शन देते हैं। श्रीरंगम में लगभग सालभर, नम्पेरुमाळ अपने भक्तों को दर्शन देते हैं और उनको आशीर्वाद देते हैं।

पराशर : दादी, हमने सोचा कि श्रीमन्नारायण श्रीवैकुण्ठधाम में रहते है, लेकिन वह यहाँ भी है … यह कैसे

आण्डाळ दादी : हाँ पराशर, जो आपने सुना वह सही है। पेरूमाळ (श्रीमन्नारायण) वैकुण्ठ में हैं और वह यहां हमारे साथ भी हैं। मुझे यकीन है कि आपने जल के विभिन्न रूपों के बारे में सुना होगा : तरल, भाप और बर्फ | इसी तरह श्रीमन्नारायण के पांच रूप हैं, वे पररूप (श्री वैकुण्ठ में भगवान का रूप), व्यूहरूप (भगवान विष्णु क्षीरसागर के रूप में), विभेद/विभाव रूप (राम, कृष्ण, मत्स्य आदि के रूप में अवतार), सर्वज्ञ (भगवान ब्रह्माण्ड के प्रत्येक कण में निवास करते है) और मंदिरों में दिव्य मंगल विग्रह (अर्चाविग्रह) के रूप में रहते हैं। श्रीमन्नारायण भगवान जी ने श्रीरंगम में दिव्य मूर्ति रूप में उपस्थित हैं। अवतार का मतलब है नीचे उतरना या अवरोहण करना। जैसा कि मैंने आपको पहले बताया था, हम इस दुनिया में हर किसी की भलाई के लिए प्रार्थना करते हैं। श्रीमन्नारायण भगवान हमारी प्रार्थनाओं के उत्तर स्वरूप में यहां पधारे है । हम सभी के प्रति भगवान् को अत्यन्त प्रीति है और हमारे साथ रहने के लिए पसंद करते हैं, यह भी एक कारण है कि भगवान श्री रंगनाथ के रूप में हमारे साथ यहाँ रहते है।

bhagavan-5-forms-parathvadhi-panchakam

इस पवित्र स्थल मे निवास करने वाले भगवान् का सन्दर्शन और पूजा कर, दादी ने व्यास और पराशर सहित प्रथान किया ।

व्यास: दादीजी, हमने आपसे उनके बारे में सुनने के बाद, उन्हें पसंद करना शुरू कर दिया है । दादी, इसके अलावा, वह हमारे जैसे दिखते है|

आण्डाळ दादी : वह न सिर्फ हम में से एक जैसे दिखते है, अपितु वह भी हम जैसे ही रहें है। विभेद (विभव) रूप में, उन्होंने हमारे साथ रहने के लिए अपने सर्वोच्च श्रीवैकुण्ठ छोड़ दिया और भगवान, श्री राम और कृष्ण के रूप में अवतार लिया और हमारी तऱह ही रहें। हम में से बहुत से लोग श्री राम या श्री कृष्ण को पसंद करते हैं, इसलिए उन्होनें हमारे साथ पेरिय पेरुमाळ रूप में कृष्ण के रूप में बने रहने का फैसला किया और नाम श्रीमन्नारायण के रूप में श्री राम के रूप में जाने का फैसला किया। पेरिय पेरुमाळ हमेशा एक गहरे विचार में बैठते हुए देखा जाते है, अपने भक्तों के बारे में सोच रहे हैं और श्रीमान नारायण हमेशा हमारे बीच में हैं, अपने भक्तों द्वारा दिखाए प्रेम का आनंद लेते हैं।

सभी अपने घर पहुंचते हैं।

व्यास और पराशर : ठीक है दादी, हम अब खेल के मैदान जा रहे हैं |

आण्डाळ दादी : बच्चों ध्यान से खेलना और याद रहें कि आप अपने मित्रों के सङ्गत मे जितना संभव हो उतना श्रीमन्नारायण के विषय पर अवश्य चर्चा करें ।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन्

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2014/07/beginners-guide-who-is-sriman-narayana/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org