बालपाठ – आचार्यों का परिचय

श्री:  श्रीमते शठकोपाये नमः  श्रीमते रामानुजाये नमः  श्रीमद्वरवरमुनये नमः

बालपाठ

<< दिव्य प्रबन्ध – आऴ्वारों का सबसे मूल्यवान उपहार

Acharyasआचार्य रत्न हार

पराशर और व्यास आते हैं और थोड़ी देर बाद आण्डाल दादी को देखते हैं। वे छुट्टी के दौरान अपने भव्य माता-पिता के साथ रहने के लिए तिरुवल्लिककेनी गए थे।

आण्डाल दादी: पराशर! व्यास! वापसी पर स्वागत है। मुझे उम्मीद है कि आपने तिरुवल्लिक्केनी में बहुत अच्छा समय बिताया है।

पराशर: हाँ पट्टी! वहां बहुत अच्छा था |हम हर रोज  पार्थसारथी पेरुमाल मंदिर में जाते थे। इतना ही नहीं, हमने बहुत दिव्य  देश के दर्शन किये जैसे कांचीपुरम आदि का दौरा किया था। हम श्रीभूतपुरी भी गए और वहां एम्पेरुमानार(भगवान) की पूजा किया था।

आण्डाल दादी: सुनकर बहुत अच्छा है | श्री पेरुम्बुदुर ( श्री भूतपुरी) श्री रामानुजाचार्य (एम्पेरुमानार) का जन्म स्थान है। वह सबसे महत्वपूर्ण आचार्यों में से एक है। मैं जल्द ही इसके बारे में और बताउंगी। मैंने आपको पिछली बार बताया था कि मै  आचार्यो के बारे में बताउंगी। मैं अब एक संक्षिप्त परिचय दूंगी। क्या आप शब्द “आचार्य” का अर्थ जानते हैं?

व्यास: दादी! क्या आचार्य, गुरु के समान है?

आण्डाल दादी: Yes. आचार्य और गुरु समान शब्द हैं |आचार्य का अर्थ है जो सच्चे ज्ञान सीखे है, वह खुद अनुसरण करते है और दूसरों को भी उसी के पालन के लिए प्रेरित करते है। गुरु का मतलब है जो हमारी अज्ञानता को मिटते है।

पराशर: दादी “सच्चा ज्ञान” क्या है?

आण्डाल दादी: बहुत बुद्धिमान प्रश्न किया पराशर | सच्चा ज्ञान यह जानना है कि हम कौन हैं और हमारी जिम्मेदारियां क्या हैं। उदाहरण के लिए, मैं आपकी दादी हूं और मेरी जिम्मेदारी आपको अच्छे मूल्यों आदि के साथ शिक्षित करना है। अगर मुझे इस बारे में अच्छी समझ है – यह सही ज्ञान है। इसी प्रकार, हम सभी भगवान के आधीन है और वे हमारे मालिक है। मालिक होने के कारण सेवा के योग्य है, उन्हें सेवा करने का हमारा कर्तव्य है |यह समझना हर एक के लिए  “सच्चा ज्ञान” है |जो लोग इसे जानते हैं और व्यावहारिक तरीके से दूसरों को सिखाते हैं उन्हें आचार्य कहा जाता है। यह “सच्चा ज्ञान” वेद, वेदांतम, दिव्य प्रबन्धम आदि में उपलब्ध है।

व्यास: ओह! तो, पहला आचार्य कौन है? कुछ लोगों को इस “सच्चे ज्ञान” के बारे में पहले पता होना चाहिए कि वह दूसरों को सिखाया है।

आण्डाल दादी: शानदार प्रश्न व्यास |हमारी पेरिया पेरुमाल पहला आचार्य है। हमने पहले ही आऴ्वारों के बारे में देखा है |पेरुमल ने उन्हें सच्चा ज्ञान दिया | आऴ्वारों ने पेरुमल के प्रति महान लगाव दिखाया, जैसा कि हमने देखा उन्के जीवनी में और अपने दिव्व्य प्रबन्धम के माध्यम से भी सच्चा ज्ञान प्रकट किया है।

पराशर : दादी! आऴ्वारों के बाद, क्या हुआ?

आण्डाल दादी: आऴ्वार कुछ समय के लिए इस दुनिया में रहे और वे परमपदम चले गए, वहाँ हमेशा के लिए पेरुमाल के साथ रहे। एक अंधेरे अवधि थी जब ज्ञान धीरे-धीरे क्षीन हो गया था और यहां तक कि दिव्व्य प्रबन्धम लगभग खो गए थे। परन्तु यह नम्मालवार की दिव्य अनुग्रह से पुनः दिव्व्य प्रबन्धम प्राप्त हुए, और बाद में कई आचार्यों द्वारा प्रचारित किया गया थे। हम उन आचार्यों के बारे में बाद में देखेंगे |

पराशर और व्यास: दादी हम इसे आगे देख रहे हैं।

आण्डाल दादी: ठीक है, आपके माता-पिता आपको अब बुला रहे हैं जब हम अगली बार मिलेंगे तो मैं एक और आचार्य के बारे में बताउंगी।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुजन दासन

आधार – http://pillai.koyil.org/index.php/2015/06/beginners-guide-introduction-to-acharyas/

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *